April 6, 2017

rakeshkirachnay

राकेश की रचनाएँ
http://rakeshkirachanay.blogspot.in/


भटकता हुआ राही हूँ. कविता/ कहानी/ यात्रा वृतांत लेखन मुझे आत्मिक शांति एवं आनंद देता है. सभी की भावनाओं एवं चाहत को मैं सिद्दत से आत्मसात कर अपने शब्दों के स्वपनिल संसार से कुछ शब्द लेकर मैं उन्हें पिरोने की एक मासूम कोशिश करता हूँ. जैसा देखता हूँ वैसा ही सोचता हूँ और जस का तस लिख कर आपके सामने प्रस्तुत करता हूँ.   
Indian blog

I am a wandering soul. Writing poetry, stories and travelogues gives me peace and joy. I present the way I see and feel...

- राकेश कुमार श्रीवास्तव

2 comments: